मेजर दाहिया को किसने मारा? (Who Killed Major Dahiya ?)

February 22, 2017 0

जम्मू-कश्मीर में उपद्रवी जो सेना के काम में दखल देते हैं को सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत की चेतावनी से विवाद खड़ा हो गया है। हैरानी यह है कि कश्मीर के अलगाववादी तो भड़क ही रहे हैं विपक्ष के गुलाम नबी आजाद जैसे नेता भी जनरल की आलोचना कर रहे हैं कि इससे कश्मीर में स्थिति और खराब होगी। पर जनरल ने कहा क्या है? सैनिक कार्रवाई को बाधित करने वाले लोगों को कड़ी चेतावनी देते हुए जनरल रावत ने कहा है कि ऐसे लोग परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहें और कश्मीर में पाकिस्तान तथा आईएसआईएस के झंडे लहराने वालों को देशद्रोही माना जाएगा। जनरल राजनेता तो है नहीं। घुमा फिरा कर बात करनी सैनिकों को नहीं आती इसलिए […]

मनमोहन सिंह का रेनकोट (Manmohan Singh’s Raincoat)

February 15, 2017 1

अमेरिका के 33वें राष्ट्रपति हैरी ट्रूमैन ने कहा था कि अगर आप ताप नहीं सह सकते तो रसोई में कदम मत रखो। अर्थात् अगर आप राजनीति में हैं तो आलोचना और यहां तक कि अपशब्द भी सहने की ताकत आप में होनी चाहिए। कुछ ऐसी ही बात पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव ने भी कही थी कि राजनीति में मोटी चमड़ी चाहिए और गालियां तक सहने को तैयार रहना चाहिए। इसलिए प्रधानमंत्री मोदी की पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर की गई टिप्पणी पर कांग्रेस का बवाल समझ नहीं आता। अपने प्रतिद्वंद्वियों पर हमला सब राजनीतिक दल करते हैं। विदेशों में भी होता है। कई जगह तो हमसे भी अधिक आक्रामकता और निम्न ढंग से होता है। यहां प्रधानमंत्री मोदी को […]

नेता, उनके और हमारे (Leaders: Theirs and Ours)

February 8, 2017 1

अमेरिका में नए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प व्हाइट हाउस में रहने लगे हैं और उनके शपथ ग्रहण के तत्काल बाद पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा व्हाइट हाउस छोड़ गए। ऐसा भारत में भी होता है। नए राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण समारोह के साथ पूर्व राष्ट्रपति राष्ट्रपति भवन छोड़ देते हैं। लेकिन एक बड़ा अंतर है। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति व्हाइट हाउस छोड़ कर अपने निजी आवास में चले जाते हैं जबकि भारत में एक राष्ट्रपति ‘पूर्व’ बनने के बाद एक और विशाल सरकारी बंगले में शिफ्ट हो जाते हैं जहां अंत तक उनका खर्चा करदाता उठाता रहता है। बराक ओबामा अब वाशिंगटन में कालोरामा के एक बंगले में दो साल रहेंगे। यह एक विशाल 8200 वर्ग फुट का मकान है जिसमें सब […]

पंजाब : कम बुराई कौन सी है? (Punjab: Which is the Lesser Evil?)

February 1, 2017 0

प्रधानमंत्री मोदी की प्रकाश सिंह बादल की तारीफ के बावजूद पंजाब में जो हवा चल रही है वह बादल परिवार और हुकूमत को उड़ा ले जाएगी। वोटर इस बात को लेकर बिलकुल साफ नजर आता है कि उसे क्या नहीं चाहिए। वह पांच साल और बादल सरकार और बादल परिवार नहीं चाहता। इसका असर भाजपा पर होगा जिसका अस्तित्व ही अकाली दल पर निर्भर करता है। भाजपा के हाईकमान ने पार्टी को अकालियों को आउटसोर्स कर दिया। पंजाब में भाजपा ने तो सुसाइड कर लिया लगता है और उनके बारे कहा जा सकता है कि कुछ लोग अपनी हिम्मत से तूफां की जद से बच निकले कुछ लोग मगर मल्लाओं की हिम्मत के भरोसे डूब गए! कई मामलों में बादल […]