• Author with Sh. Atal Bihari Vajpayee

अकाली दल का ब्लूस्टार (Akali Dals Blue Star)

September 20, 2018 0

पंजाब में अकाली दल तथा उसके नेतृत्व की स्थिति लगातार खराब होती जा रही है। अब तो फिर पुलिस घेरे में पार्टी रैलियां कर रही है पर पहले तो अकाली नेताओं ने लोगों के गुस्से के डर से घर से बाहर निकलना बंद कर दिया था। बरगाड़ी में श्री गुरु ग्रन्थ साहिब की बेअदबी के बाद धरने पर बहिबलकलां बैठे दो सिखों की पुलिस गोली में मौत से मामला और बिगड़ गया है। गोली चलाने का हुकम किसने दिया, किसने नहीं दिया यह विवाद बन गया है। सरदार प्रकाश सिंह बादल कहते हैं कि उन्होंने नहीं दिया लेकिन तब वह मुख्यमंत्री थे और उनके पुत्र सुखबीर बादल गृहमंत्री थे इसलिए लोगों की नजरों में वह गोली चलने की जिम्मेवारी से […]

इतिहास के आईने में अमरेन्द्र सिंह (Focus on Amarinder Singh)

July 12, 2018 0

पंजाबियों ने वह दर्दनाक वीडियो देखा है जहां अपने पिता की लाश के साथ लेटा आठ साल का जसप्रीत कह रहा है,  “पापा उठो मैनु स्कूल छड के आओ।“ लेकिन पापा, तरनतारन के  धोतियां गांव का गुरबेज सिंह 36 साल नहीं उठ सकता क्योंकि उसे तो नशा जिसे पंजाब में चिट्टा, कहा जाता है लील गया है। नशे के कारण पत्नी छोड़ गई थी अब बच्चे बेसहारा हैं। गुरबेज की विधवा मां विलाप करती है, “जब से मेरे बेटे ने चिट्टा लेना शुरू किया है तब से मेरी जिंदगी नरक बन गई है। मेरे पास केवल एक एकड़ जमीन थी वह भी उसके इलाज के लिए बेच दी। अब मैं क्या करुंगी।“ ऐसी कहानियां गांव-गांव दोहराई जा रही है। देहात में […]

वह हमारा सज्जन नहीं (He Not Our ‘Sajjan’)

April 19, 2017 0

कैनेडा के रक्षामंत्री हरजीत सिंह सज्जन ने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरेंद्र सिंह के इस आरोप का जवाब नहीं दिया कि वह खालिस्तानी समर्थक हैं। कैनेडा की सरकार ने अवश्य अमरेंद्र सिंह के बयान को ‘निराशाजनक’ कहा है जबकि सज्जन का कहना है कि उनका सारा ध्यान भारत तथा कैनेडा के रिश्तों को मज़बूत करने पर ही लगेगा। लेकिन उल्लेखनीय है कि वहां खालिस्तान समर्थकों पर रोक लगाने का कैनेडा की सरकार ने कभी प्रयास नहीं किया। लेकिन उनकी यात्रा विवाद में तो आ गई है क्योंकि अमरेंद्र सिंह ने सज्जन की पंजाब यात्रा के दौरान उनसे मिलने से इंकार कर दिया है। पंजाब में आमतौर से यह परम्परा रही है कि जो पंजाबी मूल के बड़े लोग अमेरिका या कैनेडा […]

राज करेगा केजरीवाल? (Raj Karega Kejriwal?)

April 19, 2016 0

सुखबीर सिंह बादल बठिंडा में अकाली कार्यकर्ताओं को बैसाखी के दिन तलवंडी साबो में अकाली सम्मेलन में शामिल होने के लिए प्रेरित कर रहे थे पर जो उन्होंने वहां कहा वह अजीब था। सुखबीर का कहना था, ‘पिंडा विच बस्सां भेज दित्तियां जाण गियां पर वर्कर तो सौंह पाके लैके आणा।’ अर्थात् अकाली दल के प्रधान कह रहे थे कि आपको सम्मेलन तक मुफ्त पहुंचाने के लिए बसों का इंतजाम कर दिया जाएगा पर लोगों को शपथ दिलवा कर लाएं कि वह और कहीं नहीं जाएंगे। इसमें अकाली दल के सर्वेसर्वा की घबराहट छिपी थी कि माघी वाला इतिहास न दोहराया जाए जब लोग अकाली दल द्वारा भेजी बसों में सम्मेलन स्थल तक तो पहुंच गए थे पर बसों से […]