• Author at Kremlin in Moscow

United States of India

April 5, 2018 0

 विपक्ष का सर्कस शुरू हो गया है। नेता जगह-जगह इकट्ठे हो रहे हैं। ममता बैनर्जी विशेष तौर पर रिंग मास्टर बनना चाहतीं है। कई नेताओं जिनमें सोनिया गांधी भी शामिल है, से वह मिल चुकी हैं। सर्कस की तरह ट्रपीज़ पर चंद्र बाबू नायडू जैसे इधर से उधर झूल रहे हैं। कई और झूलने की तैयारी में है। जब से भाजपा गोरखपुर तथा फूलपुर में बुरी तरह से पिटी है तब से यह प्रभाव फैल गया कि इसे हराया जा सकता है। वह अजेय नहीं रही। तर्क गलत भी नहीं। पिछले चुनाव में भाजपा को मात्र 31 प्रतिशत वोट पर ही बहुमत मिल गया था क्योंकि बाकी 69 प्रतिशत बिखरा हुआ था। 2014 में भारी कांग्रेस विरोधी तथा मोदी पक्षीय […]

विकल्प है, तो विकल्प क्या है? (Where is the alternative ?)

March 15, 2018 0

सोनिया गांधी ने घोषणा की है कि वह भाजपा तथा नरेन्द्र मोदी को सत्ता में वापिस आने नहीं देंगे। उनका यह भी विश्वास है कि 2019 में कांग्रेस वापिसी करेगी। उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि वह जानती थी कि मनमोहन सिंह उनसे बेहतर प्रधानमंत्री होंगे लेकिन फिर सवाल उठता है कि उन्होंने पर्दे के पीछे से मनमोहन सिंह की लगाम अपने हाथ में क्यों रखी? मनमोहन सिंह को तो एक प्रकार से स्टैपनी प्रधानमंत्री बना दिया गया जिनकी इज्जत न पार्टी करती थी न उनके मंत्री। उनका बड़ा तमाशा तो तब बन गया था जब राहुल गांधी ने जबरदस्त अहंकार दिखाते हुए उस वक्त मंत्रिमंडल द्वारा पारित अध्यादेश के टुकड़े कर दिए जब प्रधानमंत्री वाशिंगटन में अमेरिकी राष्ट्रपति से […]

बाहुबली (Bahubali)

May 25, 2017 0

अपनी सरकार की तीसरी वर्षगांठ पर मोदी सरकार ने अंतर्राष्ट्रीय अदालत में कुलभूषण जाधव मामले में देश को बढ़िया गिफ्ट दिया है। गिफ्ट बनता भी है। जिस तरह देश की जनता नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में लगातार अपना विश्वास प्रकट करती जा रही है, यहां तक कि उन्होंने नोटबंदी का कड़वा घूंट भी अधिक शिकायत किए बिना पी लिया, उसके बाद प्रधानमंत्री मोदी तथा उनकी सरकार की भी जिम्मेवारी बनती है कि वह जनता की आशाओं को पूरा करने में दिन-रात लगा दे। ऐसा आभास भी मिल रहा है। कुलभूषण मामले में अभी लम्बी लड़ाई नजऱ आती है क्योंकि पाक सेना जिसने यह मुद्दा बनाया है, वह जल्द हार नहीं मानेगी। लेकिन विश्वास जरूर है कि हमारी सरकार उनकी रिहाई […]

लव अफेयर अभी जारी है (Love Affair Continues)

December 27, 2016 1

राहुल गांधी बहुत समय से उतावले हो रहे थे। धमकियां दे रहे थे कि अगर उन्होंने मुंह खोला तो भूकम्प आ जाएगा। 170 घंटे के बाद आखिर में गुजरात में मेहसाणा में राहुल ने अपना मुंह खोला तो वही घिसे पिटे आरोप प्रधानमंत्री मोदी पर दोहरा दिए जिन्हें पहले प्रशांत भूषण अदालत में तथा अरविंद केजरीवाल दिल्ली विधानसभा में लगा चुके हैं कि नरेन्द्र मोदी को सहारा तथा बिड़ला से करोड़ों रुपए मिले थे। ऐसा किसी डायरी में लिखा हुआ है लेकिन इन आरोपों को सुप्रीम कोर्ट बार-बार रद्द कर चुका है कि यह बेबुनियाद हैं, ज़ीरो हैं, फर्जी हैं। लेकिन उन आरोपों को राहुल गांधी ने भरी सभा में मेहसाणा में दोहरा दिया जिससे अंग्रेजी का मुहावरा याद आता […]