नरेन्द्र मोदी की सर्जिकल स्ट्राइक, Narendra Modi’s Surgical Strike

July 15, 2021 Chander Mohan 0

मोदी मंत्रिमंडल में जो भारी फेरबदल हुआ है वह किसी राजनीतिक सर्जिकल स्ट्राइक से कम नही। प्रधानमंत्री मोदी ने बता दिया कि अपनी पार्टी में वह सर्वशक्तिमान है, उनके निर्णय को कोई चुनौती देने वाला नही है।  मंत्रिमंडल से हटाने या शामिल करने के लिए उन्हे डा. मनमोहन सिंह की तरह किसी की परमिशन लेने की ज़रूरत नही। एक दर्जन मंत्रियों को हटा कर और तीन दर्जन को शामिल करने का साहसी निर्णय ले प्रधानमंत्री मोदी ने बता दिया कि वह अपने घर के पूरे मालिक हैं। कोई नाराज़ हो जाएगा इसकी  चिन्ता नही। पिछले कुछ समय में सरकार की जो आलोचना हुई है इसके बावजूद अन्दर या बाहर से कोई चुनौती नही। मोदी सरकार के आलोचक लंडन के द […]

जिन्हें नाज़ है हिन्द पर वो कहाँ हैं, Who is Accountable?

April 29, 2021 Chander Mohan 0

हम कहाँ आ गए? क्यों आ गए? कैसे आ गए? सरकारी आँकड़े बेमायने हो चुकें हैं। शवों के साथ सच्चाई को दफ़नाने का प्रयास हो रहा हैपर फुटपाथों पर जल रही चिताएँ तो देश को असली तस्वीर बताती है। अस्पतालों के बाहर मरीज़ों से भरी एंमबूलेंस की लाइन तो हक़ीक़त  बताती हैं। बैड और दवाई के लिए गिड़गिड़ाते मरीज़ और परिवार तो वास्तविकता बतातें हैं। कई परिवार तो अंतिम संस्कार भी नही करवा सके। शमशान और क़ब्रिस्तान में जगह नही रही। कई जगह जल जल कर शमशान की चिमनी पिघलने लगी है। बेंगलूर के एक शमशान ने टोकन सिस्टम शुरू कर दिया है, फ़र्स्ट कम फ़र्स्ट सर्व। कई अस्पतालों में आक्सिजन की कमी के कारण मरीज़ मर चुकें हैं। हरियाणा […]

क्या सुरंग के अंत में कोई रोशनी है? Is There Light At End of Tunnel?

September 10, 2020 Chander Mohan 0

चीन में उत्पन्न कोरोना वायरस से यहाँ भयावह स्थिति बन रही है। मरीज़ों का संख्या 45 लाख के नज़दीक पहुँच गई है। दैनिक मरीज़ों की संख्या 90000 के आसपास  है और शीघ्र हम लखपति बनने वाले हैं।दुनिया में हर तीसरा नया मरीज़ भारतीय है।  हम ब्राज़ील से आगे निकल चुकें हैं और अब केवल अमेरिका आगे रह गया है पर बड़ी जल्दी भारत महान उसे भी पछाड़ संक्रमण के शिखिर पर होगा। यह शिखिर क्या होगा और कब होगा कोई नही कह सकता। चाहे सरकार प्रतिवाद करती है पर नज़र आता है कि यहाँ कम्यूनिटी स्परैड है  अर्थात यह लोगों में फैल रहा है क्योंकि यह अब हर जगह से निकल रहा है। बचाव यह है कि शायद हमारी रोग […]