जब ओलम्पिक स्टेडियम में तिरंगा फहराया गया, Best Independence Day Gift

August 12, 2021 Chander Mohan 0

यह वह सुनहरा क्षण था जिसका तेरह वर्ष से इंतज़ार था। इससे पहले 2008 की बीजिंग ओलम्पिक में अभिनव बिंद्रा ने गोल्ड मैडल जीता था। और अब फिर 2021 में टोक्यो में एक और हमारा नौजवान खिलाड़ी मंच पर खड़ा था, गले में गोल्ड मैडल था, आँखों में नमी थी और सामने वह तिरंगा फेहराता देख रहा था और राष्ट्रगान की धुन सुन रहा था। और 130 करोड़ लोग भावुक हो कर उस दृश्य को देख रहे थे जिसकी उन्हे बरसो से कामना थी। ‘वह’ मैडल कभी तो आएगा! नीरज चोपड़ा ने हमारी वह इंतज़ार पूरी कर दी। यह गोल्ड मैडल इस 23 वर्ष के नौजवान के साहस, आत्मबल,मेहनत और चरित्रबल की सुनहरी कहानी है। उसका पहला थ्रो 87.03 मीटर […]

हम खिलाड़ी देश नहीं हैं (We Are Not A Sporting Nation)

August 30, 2016 Chander Mohan 0

ओलम्पिक खेलों में भारत महान् 67वें नम्बर पर रहा। लंदन ओलम्पिक में हमें छ: मैडल मिले थे लेकिन इस बार हम सिंधू के रजत तथा साक्षी के कांस्य पदक पर ही अटक गए। पीवी सिंधू, साक्षी मलिक तथा दीपा करमाकर जैसे खिलाड़ी वास्तव में देश के रत्न हैं। हाकी का भी पुनरुत्थान हो रहा है। पर साफ है कि लंदन ओलम्पिक के बाद हमारे खेल में सुधार होने की जगह पतन हुआ है। अधिकतर खिलाड़ियों ने अपने राष्ट्रीय रिकार्ड से कम प्रदर्शन किया और बाक्सिंग तथा पहलवानी घपले का शिकार हो गई जो नरसिंह यादव के मामले से पता चलता है। 84 प्रतिशत अपने क्वालीफाइंग मार्क से नीचे रहे। 34 में से केवल 4 एथलीट फाइनल में पहुंचे। अधिकतर का […]

थोड़ा है थोड़े की ज़रूरत है (Thoda He Thoda Ki Zaroorat He)

August 16, 2016 Chander Mohan 0

शहीद राम प्रसाद बिस्मल जिन्हें 19 दिसम्बर 1927 में फांसी दी गई थी, ने लिखा था, कभी वह दिन भी आएगा जब अपना राज होगा, जब अपनी ही जमीं होगी और अपना आसमां होगा! अब जबकि देश आजादी के सात दशक पूरे कर रहा है देखने की जरूरत है कि हमने अपनी जमीं और अपने आसमां का बनाया क्या है? इसमें कोई शक नहीं कि देश ने बेहद तरक्की है। बाहर के लोग पूछते हैं कि अगला सुपर पावर कौन है, चीन या भारत? इस वक्त हमारी अर्थव्यवस्था योरूप की अर्थव्यवस्था से चार गुणा तेजी से बढ़ रही है और 2030 के दशक में हम यूरोपियन यूनियन की अर्थव्यवस्था को मात दे देंगे। 2050 तक हमारी अर्थव्यवस्था यूरोपियन यूनियन से […]