क्या स्कूल खुलने चाहिए, Should Schools Reopen?

July 29, 2021 Chander Mohan 0

बचपन के दुख कितने अच्छे होते थे                       तब तो सिर्फ़ खिलौने टूटा करते थे समीना असलम समीना के यह शब्द आज के कोरोना काल में कितने मार्मिक लगतें हैं। आज केवल खिलौने ही नही टूटते कईयों का तो बचपन ही टूट गया है। कोरोना ने सबको प्रभावित किया है पर सबसे अधिक वह प्रभावित है जो इससे निबटने में सबसे कमजोर है, जिनकी त्रासदी है कि उन्हे मालूम ही नही कि कितनी बडी त्रासदी ने उन्हे घेर लिया है, हमारे बच्चे। जो खेलने का, उछल कूदने का, शरारत करने का समय है वह सहमा सहमा गुज़र रहा है। इस महामारी का सबसे बड़ा ज़ख़्म शायद  बच्चों को झेलना पड़े। बच्चों से बाहर के उनके दो रिश्ते, पड़ोस और स्कूल, […]

पंजाब कांग्रेस की ‘डैत्थ विश’, Congress’s Death Wish In Punjab

July 22, 2021 Chander Mohan 0

पंजाब कांग्रेस की गुत्थी सुलझ गई या और उलझ गई ? यह लाख टके का सवाल है। पिछले कुछ समय से पंजाब कांग्रेस में पंजाबी भाषा में, ‘डांगो डांगी’ चल रही है। हाईकमान शायद चुनाव में  ‘फ्रैश’ चेहरा उतारना चाहता है पर इस समय तो नवजोत सिंह  सिद्धू के माध्यम से उन्होने पार्टी का कबाड़ा कर लिया है। ज़बरदस्तकोल्ड वॉर शुरू हो गई है। कोई छ: महीने पहले तक यह लगता था कि  प्रभावी विकल्प न होने के कारण अगले चुनाव में कांग्रेस वापिसी करेगी। पर तब नवजोत सिंह सिद्धू बेलगाम हो गए और उन्होंने अपनी ही सरकार की कमज़ोरियों को हवा देना शुरू कर दिया। हर सरकार में कमज़ोरियाँ होती हैं पर अगर अपने ही इन्हें उजागर करने लग […]

नरेन्द्र मोदी की सर्जिकल स्ट्राइक, Narendra Modi’s Surgical Strike

July 15, 2021 Chander Mohan 0

मोदी मंत्रिमंडल में जो भारी फेरबदल हुआ है वह किसी राजनीतिक सर्जिकल स्ट्राइक से कम नही। प्रधानमंत्री मोदी ने बता दिया कि अपनी पार्टी में वह सर्वशक्तिमान है, उनके निर्णय को कोई चुनौती देने वाला नही है।  मंत्रिमंडल से हटाने या शामिल करने के लिए उन्हे डा. मनमोहन सिंह की तरह किसी की परमिशन लेने की ज़रूरत नही। एक दर्जन मंत्रियों को हटा कर और तीन दर्जन को शामिल करने का साहसी निर्णय ले प्रधानमंत्री मोदी ने बता दिया कि वह अपने घर के पूरे मालिक हैं। कोई नाराज़ हो जाएगा इसकी  चिन्ता नही। पिछले कुछ समय में सरकार की जो आलोचना हुई है इसके बावजूद अन्दर या बाहर से कोई चुनौती नही। मोदी सरकार के आलोचक लंडन के द […]

स्पष्ट,मौजूद और उभरता खतरा : ड्रोन, The Drone Challenge

July 8, 2021 Chander Mohan 0

साउदी अरब की अबकैक और खुरेस तेल रिफ़ायनरी वहां की सबसे बड़ी तेल रिफ़ायनरी है। पूरी तरह से सुरक्षित समझी जाती थी आख़िर उनकी  सुरक्षा के लिए अरबों डालर का  पेट्रियॉट एयर डिफैंस सिस्टम तैनात है। इसके बावजूद सितम्बर 2019 में ईरान द्वारा समर्थित हूती बाग़ियों ने दस ड्रोन जिनकी कीमत कुछ करोड़ डालर होगी,भेज उन पर हमला कर इतना नुक़सान किया कि उन्हे कुछ सप्ताह बंद करना पड़ा। अनुमान है कि दैनिक 50 लाख बैरल तेल उत्पादन का नुक़सान हुआ। इससे दुनिया भर की तेल क़ीमतों में उछाल आगया। इस हमले को  रोकने के लिए पेट्रियॉट डिफैंस सिस्टम इसलिए असफल रहा क्योंकि वह उच्चाई से होने वाले हमले, हवाई जहाज़ या मिसाइल, को रोकने के लिए बना है जबकि […]

इंसानियत, जम्हूरियत, कश्मीरियत, और हक़ीक़त, The Reality Of Kashmir

July 1, 2021 Chander Mohan 0

5 अगस्त 2019  को अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद जिस तरह अभी तक  जम्मू और कश्मीर की स्थिति को सम्भाला गया वह मोदी सरकार की ‘सकसैस सटोरी’, सफलता की कहानी है। उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने अच्छा प्रशासन दिया है। हिंसा कम हुई है, पत्थरबाज़ी रूक गई है और कोविड को सम्भालने का प्रबन्ध अच्छा रहा है, जो कश्मीरी भी मानते है। फ़रवरी के बाद पाकिस्तान के साथ सीमा शान्त है। 23 महीनों के बाद जम्मू कश्मीर के नेताओं को वार्ता के लिए दिल्ली बुलाया गया है। बर्फ़ कुछ पिघली है पर अभी बहुत दूर जाना है। वास्तव में यह भी मालूम नही कि कहाँ  तक जाना है, मंज़िल क्या है? यही सवाल पूछे जाने पर डा. कर्ण सिंह […]

गलवान के बाद भारत -चीन, India and China after Galwan

June 24, 2021 Chander Mohan 0

यह एक जानबूझकर सोची समझी उकसाहट थी। एक साल पहले पूर्वी लद्दाख में गश्त कर रही 16 बिहार रैजीमैंट की टुकड़ी जिसका नेतृत्व कर्नल संतोष बाबू कर रहे थे, पर चीनी सैनिकों ने हिंसक हमला कर दिया था। कर्नल बाबू और हमारे 19 सैनिक शहीद हुए थे। हमारे जवानों ने ज़बरदस्त मुक़ाबला किया और कई महीने  चीन ने नही बताया कि उसके कितने हताहत हुए थे। बाद में चार मारे गए स्वीकार किए जबकि अमेरिकी और रूसी ख़ुफ़िया सूत्र 35-45 हताहत बता रहें हैं। चीन के साथ टकराव चलता रहता है पर चार दशक के बाद पहली बार था कि चीनी सैनिक हमारा  ख़ून बहाने की तैयारी कर आए थे। भारत और चीन के रिश्तों में गलवान एक निर्णायक मोड़ […]