• In Kuwait
About Chander Mohan
Chander Mohan is the grandson of the legendary editor of Pratap, Mahashya Krishan. He is the son of the famous freedom fighter and editor, Virendra. He is the Chief Editor of ‘Vir Pratap’ which is the oldest hindi newspaper of north west india. His editorial inputs on national, international, regional and local issues are widely read.

अडवाणीजी को राम राम I (Farewell To Advani Ji)

April 4, 2019 0

  भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व ने अपने मार्गदर्शक मंडल को बाहर का मार्ग दिखा दिया। लाल कृष्ण अडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, शांता कुमार, बीसी खंडूरी, कारया मुंडा और उनसे पहले यशवंत सिन्हा सबकी हैसीयत अब दर्शक की रह गई है। इनको भी समझना चाहिए था कि इनका समय गुज़र चुका है। आखिर अडवाणीजी की आयु 91 वर्ष है। जोशीजी कुछ ही वर्ष कम है। कितनी और राजनीति करनी है? सही कहा गया कि आदमी को तब छोड़ देना चाहिए जब लोग कहें ‘क्यों?’ तब नहीं जब लोग कहें  ‘क्यों नहीं?’ है। इन महापुरुषो का  ‘क्यों नहीं’ समय आ चुका था। अफसोस इस बात का नहीं कि इन्हें एक तरफ कर दिया गया अफसोस जिस ढंग से किया गया उसका […]

खूनी बैसाखी पर माफी चाहिए (Apology for Jallianwala Needed)

March 28, 2019 0

इस साल 13 अप्रैल बैसाखी के दिन ब्रिटिश राज के सबसे नृशंस कांड की 100वीं वर्षगांठ है। 100 साल पहले उस दिन अमृतसर के जलियांवाला बाग में शांतमय ढंग से इकट्ठे हुए निहत्थे लोगों पर ब्रिगेडियर जनरल डायर ने फायरिंग का आदेश दिया था। 1000 से उपर लोग मारे गए जिनमें गर्भवती महिलाएं और बच्चे भी शामिल थे। पंजाब विधानसभा में सर्वसम्मत प्रस्ताव पास कर ब्रिटिश सरकार से  “ब्रिटिश साम्राज्यवाद की सबसे भयंकर याद”  के लिए माफी की मांग की है। दूसरी तरफ ब्रिटिश संसद के हाऊस ऑफ लाडर्स में भारतीय मूल के लाडर्स ने इस नरसंहार पर बहस का प्रस्ताव रखा है। उल्लेखनीय है कि इससे पहले 1920 में हाऊस ऑफ लाडर्स ने इस पर बहस की थी और […]

मुद्दा तो है, पर है नहीं (An Issue That Should Be There)

March 21, 2019 0

चुनाव के शोर-शराबे, गाली-गलौच और आरोप-प्रत्यारोप में कई महत्वपूर्ण मुद्दे औझल हो गए हैं और राजनीति का बेसुरापन हॉवी हो गया है। मेरा अभिप्राय देश में बढ़ते प्रदूषण से है जो बुरी तरह से सेहत और कई मामलों में जिंदगी को प्रभावित कर रहा है। प्रकाश सिंह बादल जब मुख्यमंत्री थे तो उन्होंने पंजाब के बारे कहा था कि “न साडा पानी साफ, न साडी हवा साफ और न ही साडा खाना साफ।“ और बादल तो देश के एक प्रमुख प्रगतिशील प्रदेश के मुख्यमंत्री थे। अफसोस है कि देश में फैलते प्रदूषण के बारे कोई भी पार्टी या नेता प्रमुखता से बात नहीं कर रहा। उत्तराखंड में पर्यावरण से छेड़छाड़ की हम बहुत कीमत चुका हटे हैं लेकिन कोई सबक […]

12 Days That Changed India

March 14, 2019 0

Former British Prime Minister Harold Wilson had once famously said that “ a week is a long time in politics “. He also added that due to the fast changing political landscape fortune of a politician or a political group can change drastically in a single week. In our context it can be said that 12 days changed India and with it  the fortune of political leaders and political parties. Between the terrorist attack in Pulwama on February 14 and the Airforce  attack deep  inside Pakistan on February 26, the country changed and with it all calculations for the elections also changed drastically. A few weeks before Pulwama Narendra Modi and BJP seemed little insecure and defensive. Surveys were predicting […]

12 दिन जिन्होंने देश बदल डाला (12 Days That Changed India)

March 14, 2019 0

ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री हैरल्ड विलसन ने कहा था कि राजनीति में एक सप्ताह का समय बहुत होता है। उनके अनुसार   “एक अकेले सप्ताह के बीच राजनेताओं या राजनीतिक वर्ग का भाग्य जबरदस्त तरीके से बदल सकता है।“ भारत के संदर्भ में कहा जा सकता है कि यहां 12 दिनों ने देश को बदल डाला और साथ ही राजनेताओं तथा राजनीतिक पार्टियों की किस्मत भी बदल डाली। 14 फरवरी को पुलवामा के हमले में हमारे 40 जवान शहीद हो गए। 26 फरवरी को हमारे 12 मिराज 2000 विमानों ने पाकिस्तान की सीमा पार कर बालाकोट पर बमबारी कर दी और चुनाव का सारा नज़ारा ही बदल गया। कुछ ही सप्ताह पहले तक नरेन्द्र मोदी तथा भाजपा कुछ असुरक्षित नज़र आ […]

द मोदी डॉकट्रिन (The Modi Doctrine)

March 7, 2019 0

जांबाज़ पायलट विंग कमांडर अभिनंदन जिसने दुश्मन की हिरासत में गज़ब की बहादुरी तथा मर्यादा दिखाई है ने देश को रोमांचित कर दिया है। बहुत देर के बाद हमें कोई हीरो मिला है जिस पर हम गर्व कर सकें। लेकिन असली कहानी अलग है। हमने दशकों की कमज़ोर तथा जरूरत से अधिक उदार तथा सहनशील नीति को त्याग दिया है। च्गुजराल डाकट्रिनज् अर्थात गुजराल सिद्धांत जो शांतिवादी था तथा जिसकी मूल आत्मा थी कि बड़ी ताकत होने के नाते भारत पर अधिक जिम्मेवारी है तथा हमें अपने पड़ोसियों के साथ अच्छे संबंध रखने चाहिए और गंभीर उत्तेजना के बावजूद संयम रखना चाहिए, को अब त्याग दिया गया है। पुलवामा के बाद भारत बदला है और पड़ोसी को संदेश दिया गया […]

1 2 3 4 5 76